Search This Website

'अम्फान' के बाद अब गुजरात में हिका चक्रवात का खतरा, 120 Km/h होगी रफ्तार!



हिका चक्रवात (Cyclone Hikaa) 4 से 5 जून के बीच गुजरात के द्वारका ओखा और मौरबी से टकराता हुआ कच्छ की ओर जा सकता है. इस दौरान हवा की रफ्तार करीब 120 किमी/ घंटा होगी. इससे गुजरात (Gujarat) में भारी तबाही हो सकती है.
'अम्फान' के बाद अब गुजरात में हिका चक्रवात का खतरा, 120 Km/h होगी रफ्तार!


अहमदाबाद. बंगाल की खाड़ी (Bay of Bengal) में आए चक्रवाती तूफान 'अम्फान' (Amphan) के बाद अब गुजरात के समुद्र तट पर 'हिका' चक्रवात (Cyclone Hikaa) का खतरा मंडरा रहा है. भारतीय मौसम विभाग की ओर से अलर्ट जारी किया गया कि गुजरात में दो समुद्री तूफानों का खतरा मंडरा रहा है. जिनमें से पहला तूफान 1 से 3 जून के बीच तटीय इलाकों से टकरा सकता है. जबकि दूसरा हिका नाम का चक्रवात 4 से 5 जून के बीच गुजरात के द्वारका ओखा और मौरबी से टकराता हुआ कच्छ की ओर जा सकता है. इस दौरान हवा की रफ्तार करीब 120 किमी/ घंटा होगी. इससे गुजरात में भारी तबाही हो सकती है.

प्रशासन ने फिलहाल अरब सागर के डीप डिप्रेशन के चलते गुजरात के समुद्री तटीय इलाकों में एक नंबर का सिग्नल जारी किया है, साथ ही मछुआरों को समुंद्र में न जाने की सलाह दी है. हालांकि, मौसम विभाग बता चुका है कि चक्रवात ओमान-मस्कत के पास केंद्रित है, लेकिन 3-4 दिन में यह गुजरात की ओर तेजी से बढ़ेगा. माना जा रहा है कि जब ये चक्रवात जमीन से टकराएगा उस वक्त हवा की गति 120 किमी/ घंटा रहेगी.

गुजरात के इन जिलों भारी नुकसान की आशंका
मौसम विभाग के मुताबिक, अगले 48 घंटे के दौरान दक्षिण-पूर्व और पूर्व मध्य अरब सागर के ऊपर एक कम दबाव का क्षेत्र बनेगा और इससे आगे तेजी से बढ़ता जाएगा. 3 जून तक गुजरात और उत्तर महाराष्ट्र के तटों पर टकराने के बाद उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने की आशंका है. गुजरात में इस चक्रवात से सौराष्ट्र, पोरबंदर, अमरेली, जूनागढ़, राजकोट और भावनगर आदि जिलों को नुकसान होने की आशंका जताई जा रही है.


मौसम विभाग ने जारी की थी एडवाइजरी
मौसम विभाग की ओर से पिछले दिनों एक एडवाइजरी भी जारी की गई थी. जिसमें कहा गया कि, दक्षिण-मध्य गुजरात एवं सौराष्ट्र में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश होगी. मौसम विभाग ने 28 मई से लेकर 5 दिनों तक के लिए यह चेतावनी दी. इससे पहले सौराष्ट्र के समुद्री तट पर चक्रवात का खतरा मंडराया था, लेकिन वह वेरावल के नजदीक से गुजर गया और समु्द्र में ही खत्म हो गया.
गुजरात राजस्थान को प्रभावित करेगा चक्रवाती तूफान Windy.com पोर्टल के अपडेट्स के मुताबिक, अरब सागर में डीप डिप्रेशन के कारण चक्रवात अपना रूट बदल भी सकता है। हालांकि, मौसम विभाग बता चुका है कि यह अभी अरब सागर में ओमान-मस्कत के पास केंद्रित है। 3-4 दिनों में यह गुजरात की ओर तेजी से बढ़ेगा। 4-5 जून को चक्रवात गुजरात में तबाही मचाते हुए राजस्थान की ओर चला जाएगा। गुजरात में इस चक्रवात से सौराष्ट्र, पोरबंदर, जूनागढ़, अमरेली, राजकोट और भावनगर आदि जिलों को नुकसान होने की आशंका जताई जा रही हैं।


मछुआरों से समुद्र में न जाने की अपील बहरहाल, पोरबंदर के समुद्री तट पर करंट देखने को मिल रहा है। यहां के बंदरगाह में 1 नम्बर का सिगनल लगाया गया है। जिससे यह पता चल रहा है कि, चक्रवात इस तरफ बढ़ रहा है। ऐसे में मछुआरों से समुद्र में न जाने की अपील की गई है। चक्रवात के मद्देनजर, मौसम विभाग की ओर से पिछले दिनों एडवाइजरी भी जारी की गई थी। जिसमें कहा गया कि, दक्षिण-मध्य गुजरात एवं सौराष्ट्र में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश होगी। आईएमडी ने 28 मई से लेकर 5 दिनों तक के लिए यह चेतावनी दी।